A Smart Gateway to India…You’ll love it!
<
A Smart Gateway to India…You’ll love it!
महाभारत युद्ध के 10 गुप्त रहस्य || 10 mysteries of Mahabaharat ||

महाभारत युद्ध के 10 गुप्त रहस्य || 10 mysteries of Mahabaharat ||

महाभारत को ‘पंचम वेद’ कहा गया है। यह ग्रंथ हमारे देश के मन-प्राण में बसा हुआ है। यह भारत की राष्ट्रीय गाथा है। इस ग्रंथ में तत्कालीन भारत (आर्यावर्त) का समग्र इतिहास वर्णित है। अपने आदर्श स्त्री-पुरुषों के चरित्रों से हमारे देश के जन-जीवन को यह प्रभावित करता रहा है। इसमें सैकड़ों पात्रों, स्थानों, घटनाओं तथा विचित्रताओं व विडंबनाओं का वर्णन है। प्रत्येक हिंदू के घर में महाभारत होना चाहिए।

महाभारत में कई घटना, संबंध और ज्ञान-विज्ञान के रहस्य छिपे हुए हैं। महाभारत का हर पात्र जीवंत है, चाहे वह कौरव, पांडव, कर्ण और कृष्ण हो या धृष्टद्युम्न, शल्य, शिखंडी और कृपाचार्य हो। महाभारत सिर्फ योद्धाओं की गाथाओं तक सीमित नहीं है। महाभारत से जुड़े शाप, वचन और आशीर्वाद में भी रहस्य छिपे हैं।
दरअसल, महाभारत की कहानी युद्ध के बाद समाप्त नहीं होती है। असल में महाभारत की कहानी तो युद्ध के बाद शुरू होती है। आज तक अश्वत्थामा क्यों जीवित है? क्यों यदुवंशियों के नाश का शाप दिया गया था और क्यों धर्म चल पड़ा था कलियुग की राह पर। महाभारत का रहस्य अभी सुलझना बाकी है। महाभारत युद्ध और उससे जुड़े दस रहस्यों का हमने पता लगाया और जिसे आप शायद ही जानते हों...

1] 18 का रहस्य :

कहते हैं कि महाभारत युद्ध में 18 संख्‍या का बहुत महत्व है। महाभारत की पुस्तक में 18 अध्याय हैं। कृष्ण ने कुल 18 दिन तक अर्जुन को ज्ञान दिया। 18 दिन तक ही युद्ध चला। गीता में भी 18 अध्याय हैं। कौरवों और पांडवों की सेना भी कुल 18 अक्षोहिनी सेना थी जिनमें कौरवों की 11 और पांडवों की 7 अक्षोहिनी सेना थी। इस युद्ध के प्रमुख सूत्रधार भी 18 थे। इस युद्ध में कुल 18 योद्धा ही जीवित बचे थे।
सवाल यह उठता है कि सब कुछ 18 की संख्‍या में ही क्यों होता गया? क्या यह संयोग है या इसमें कोई रहस्य छिपा है?

2] क्या आज भी जीवित हैं अश्वत्थामा :

विज्ञान यह नहीं मानता कि कोई व्यक्ति हजारों वर्षों तक जीवित रह सकता है। ज्यादा से ज्यादा 150 वर्ष तक जीवित रहा जा सकता है वह भी इस शर्त पर कि आबोहवा और खानपान अच्छा हो तो। तब ऐसे में कैसे माना जा सकता है कि अश्वत्थामा जीवित होंगे।
क्यों जीवित हैं अश्वत्थामा : महाभारत के युद्ध में अश्वत्‍थामा ने ब्रह्मास्त्र छोड़ दिया था जिसके चलते लाखों लोग मारे गए थे। अश्वत्थामा के इस कृत्य से कृष्ण क्रोधित हो गए थे और उन्होंने अश्वत्थामा को शाप दिया था कि 'तू इतने वधों का पाप ढोता हुआ तीन हजार वर्ष तक निर्जन स्थानों में भटकेगा। तेरे शरीर से सदैव रक्त की दुर्गंध नि:सृत होती रहेगी। तू अनेक रोगों से पीड़ित रहेगा।' व्यास ने श्रीकृष्ण के वचनों का अनुमोदन किया।
कहते हैं कि अश्वत्‍थामा इस शाप के बाद रेगिस्तानी इलाके में चला गया था और वहां रहने लगा था। कुछ लोग मानते हैं कि वह अरब चला गया था। उत्तरप्रदेश में प्रचलित मान्यता अनुसार अरब में उसने कृष्ण और पांडवों के धर्म को नष्ट करने की प्रतिज्ञा ली थी।

3] महाभारत काल में विमान और परमाणु अस्त्र थे? :

मोहन जोदड़ो में कुछ ऐसे कंकाल मिले थे जिसमें रेडिएशन का असर था। महाभारत में सौप्तिक पर्व के अध्याय 13 से 15 तक ब्रह्मास्त्र के परिणाम दिए गए हैं। हिंदू इतिहास के जानकारों के मुताबिक 3 नवंबर 5561 ईसापूर्व छोड़ा हुआ ब्रह्मास्त्र परमाणु बम ही था?
महाभारत में इसका वर्णन मिलता है- ''तदस्त्रं प्रजज्वाल महाज्वालं तेजोमंडल संवृतम।।'' ''सशब्द्म्भवम व्योम ज्वालामालाकुलं भृशम। चचाल च मही कृत्स्ना सपर्वतवनद्रुमा।।'' 8 ।। 10 ।।14।।
अर्थात ब्रह्मास्त्र छोड़े जाने के बाद भयंकर वायु जोरदार तमाचे मारने लगी। सहस्रावधि उल्का आकाश से गिरने लगे। भूतमातरा को भयंकर महाभय उत्पन्न हो गया। आकाश में बड़ा शब्द हुआ। आकाश जलाने लगा पर्वत, अरण्य, वृक्षों के साथ पृथ्वी हिल गई।
अब सवाल यह उठता है कि क्या सचमुच ही हमारी आज की टेक्नोलॉजी से कहीं ज्यादा उन्नत थी महाभारतकालीन टेक्नोलॉजी?

4] कौरवों का जन्म एक रहस्य :

कौरवों को कौन नहीं जानता। धृतराष्ट्र और गांधारी के 99 पुत्र और एक पुत्री थीं जिन्हें कौरव कहा जाता था। कुरु वंश के होने के कारण ये कौरव कहलाए। सभी कौरवों में दुर्योधन सबसे बड़ा था। गांधारी जब गर्भवती थी, तब धृतराष्ट्र ने एक दासी के साथ सहवास किया था जिसके चलते युयुत्सु नामक पुत्र का जन्म हुआ। इस तरह कौरव सौ हो गए।
गांधारी ने वेदव्यास से पुत्रवती होने का वरदान प्राप्त कर किया। गर्भ धारण कर लेने के पश्चात भी दो वर्ष व्यतीत हो गए, किंतु गांधारी के कोई भी संतान उत्पन्न नहीं हुई। इस पर क्रोधवश गांधारी ने अपने पेट पर जोर से मुक्के का प्रहार किया जिससे उसका गर्भ गिर गया।
वेदव्यास ने इस घटना को तत्काल ही जान लिया। वे गांधारी के पास आकर बोले- 'गांधारी! तूने बहुत गलत किया। मेरा दिया हुआ वर कभी मिथ्या नहीं जाता। अब तुम शीघ्र ही सौ कुंड तैयार करवाओ और उनमें घृत (घी) भरवा दो।'
वेदव्यास ने गांधारी के गर्भ से निकले मांस पिण्ड पर अभिमंत्रित जल छिड़का जिससे उस पिण्ड के अंगूठे के पोरुये के बराबर सौ टुकड़े हो गए। वेदव्यास ने उन टुकड़ों को गांधारी के बनवाए हुए सौ कुंडों में रखवा दिया और उन कुंडों को दो वर्ष पश्चात खोलने का आदेश देकर अपने आश्रम चले गए। दो वर्ष बाद सबसे पहले कुंड से दुर्योधन की उत्पत्ति हुई। फिर उन कुंडों से धृतराष्ट्र के शेष 99 पुत्र एवं दु:शला नामक एक कन्या का जन्म हुआ।

5] महान योद्धा बर्बरीक :

बर्बरीक महान पांडव भीम के पुत्र घटोत्कच और नागकन्या अहिलवती के पुत्र थे। कहीं-कहीं पर मुर दैत्य की पुत्री 'कामकंटकटा' के उदर से भी इनके जन्म होने की बात कही गई है। महाभारत का युद्ध जब तय हो गया तो बर्बरीक ने भी युद्ध में सम्मिलित होने की इच्छा व्यक्त की और मां को हारे हुए पक्ष का साथ देने का वचन दिया। बर्बरीक अपने नीले रंग के घोड़े पर सवार होकर तीन बाण और धनुष के साथ कुरुक्षेत्र की रणभूमि की ओर अग्रसर हुए।
बर्बरीक के लिए तीन बाण ही काफी थे जिसके बल पर वे कौरव और पांडवों की पूरी सेना को समाप्त कर सकते थे। यह जानकर भगवान कृष्ण ने ब्राह्मण के वेश में उनके सामने उपस्थित होकर उनसे दान में छलपूर्वक उनका शीश मांग लिया।
बर्बरीक ने कृष्ण से प्रार्थना की कि वे अंत तक युद्ध देखना चाहते हैं, तब कृष्ण ने उनकी यह बात स्वीकार कर ली। फाल्गुन मास की द्वादशी को उन्होंने अपने शीश का दान दिया। भगवान ने उस शीश को अमृत से सींचकर सबसे ऊंची जगह पर रख दिया ताकि वे महाभारत युद्ध देख सकें। उनका सिर युद्धभूमि के समीप ही एक पहाड़ी पर रख दिया गया, जहां से बर्बरीक संपूर्ण युद्ध का जायजा ले सकते थे।

6] राशियां नहीं थीं ज्योतिष का आधार :

महाभारत के दौर में राशियां नहीं हुआ करती थीं। ज्योतिष 27 नक्षत्रों पर आधारित था, न कि 12 राशियों पर। नक्षत्रों में पहले स्थान पर रोहिणी था, न कि अश्विनी। जैसे-जैसे समय गुजरा, विभिन्न सभ्यताओं ने ज्योतिष में प्रयोग किए और चंद्रमा और सूर्य के आधार पर राशियां बनाईं और लोगों का भविष्य बताना शुरू किया, जबकि वेद और महाभारत में इस तरह की विद्या का कोई उल्लेख नहीं मिलता जिससे कि यह पता चले कि ग्रह नक्षत्र व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करते हैं।

7] विदेशी भी शामिल हुए थे लड़ाई में :

महाभारत के युद्ध में विदेशी भी शामिल हुए थे। एक ओर जहां यवन देश की सेना ने युद्ध में भाग लिया था वहीं दूसरी ओर ग्रीक, रोमन, अमेरिका, मेसिडोनियन आदि योद्धाओं के लड़ाई में शामिल होने का प्रसंग आता है। इस आधार पर यह माना जाता है कि महाभारत विश्व का प्रथम विश्व युद्ध था।

8] 28वें वेदव्यास ने लिखी महाभारत :

ज्यादातर लोग यह जानते हैं कि महाभारत को वेदव्यास ने लिखा है लेकिन यह अधूरा सच है। वेदव्यास कोई नाम नहीं, बल्कि एक उपाधि थी, जो वेदों का ज्ञान रखने वाले लोगों को दी जाती थी। कृष्णद्वैपायन से पहले 27 वेदव्यास हो चुके थे, जबकि वे खुद 28वें वेदव्यास थे। उनका नाम कृष्णद्वैपायन इसलिए रखा गया, क्योंकि उनका रंग सांवला (कृष्ण) था और वे एक द्वीप पर जन्मे थे।

9] दुशासन के पुत्र ने मारा अभिमन्यु को :

लोग यह जानते हैं कि अभिमन्यु की हत्या चक्रव्यूह में सात महारथियों द्वारा की गई थी। इन सातों महारथियों ने मिलकर अभिमन्यु की हत्या कर दी थी लेकिन यह सच नहीं है। महाभारत के मुताबिक, अभिमन्यु ने बहादुरी से लड़ते हुए चक्रव्यूह में मौजूद सात में से एक महारथी (दुर्योधन के बेटे) को मार गिराया था। इससे नाराज होकर दुशासन के बेटे ने अभिमन्यु की हत्या कर दी थी।

10] तीन चरणों में लिखी महाभारत :

वेदव्यास की महाभारत को बेशक मौलिक माना जाता है, लेकिन वह तीन चरणों में लिखी गई। पहले चरण में 8,800 श्लोक, दूसरे चरण में 24 हजार और तीसरे चरण में एक लाख श्लोक लिखे गए। वेदव्यास की महाभारत के अलावा भंडारकर ओरिएंटल रिसर्च इंस्टीट्यूट, पुणे की संस्कृत महाभारत सबसे प्रामाणिक मानी जाती है।
अंग्रेजी में संपूर्ण महाभारत दो बार अनूदित की गई थी। पहला अनुवाद 1883-1896 के बीच किसारी मोहन गांगुली ने किया था और दूसरा मनमंथनाथ दत्त ने 1895 से 1905 के बीच। 100 साल बाद डॉ. देबरॉय तीसरी बार संपूर्ण महाभारत का अंग्रेजी में अनुवाद कर रहे हैं।
English

महाभारत युद्ध के 10 गुप्त रहस्य || 10 mysteries of Mahabaharat ||

Mahabharata ' fifth Veda ' stated . This treatise minds of our nation - is housed in life . It is India's national story . The book then India ( aaryaavart ) described the overall history . Your ideal woman - Men characters people of our country - it affects 's life . Hundreds of the characters , places, events and describes the oddities and ironies . Should be epic in every Hindu household .

Several events in the Mahabharata , respect and knowledge - science secrets are hidden . Each character of the Mahabharata is lively , whether Kauravas , Pandavas , Karna and Krishna or Dhrishtadyumna , surgical , cock and get Kripachary . Mahabharata is not just limited to tales of warriors . Curses associated with the Mahabharata , the secret hidden in the Word and blessings .

Indeed , the story of Mahabharata war is not over . In fact the story of the Mahabharata war begins . Why is ashwatthama alive today ? Why was cursed Yduvanshion destruction of why religion was on the path of Kali Yuga . Have solved the mystery of the Mahabharata . We detected Mahabharata war and its associated ten secrets and you hardly know ...

1] 18 Secret:

Say that the number 18 is of great importance in the Mahabharata war . There are 18 chapters in the book of the Mahabharata . Krishna taught Arjuna total of 18 days . The war lasted 18 days . There are 18 chapters in the Gita . Akshohini Army was the army of the Kauravas and Pandavas , including 18 of the Kauravas and the Pandavas 7 of 11 Akshohini army . Chief architect of the war there were 18 . A total of 18 warriors survived the war .

The question that arises is why everything was in number 18 ? Is it a coincidence or is there a hidden secret ?

2] What are alive today ashwatthama :

science does not assume that a person can live for thousands of years . Survived for more than 150 years on the condition that he could also be a good climate and catering . So then how can you believe that ashwatthama alive .

Why are alive ashwatthama : ashwatthama Mahabharata war had left the brahmastra which killed tens of millions . This act of ashwatthama Krishna became angry and cursed the ashwatthama that carries you so Vdon happened three thousand years of sin Bhatkega in isolated places . Your body always smelled blood flowing will be counted . You will suffer from many diseases . " Diameter endorsed the words of Krishna .

Ashwatthama says that after the curse was gone and stayed there in the desert . Some people believe that he was gone billion . According to popular belief billion in Uttar Pradesh Krishna and the Pandavas , he had pledged to destroy religion .

3] Aircraft and nuclear weapons in the Mahabharata ? :

Some skeletons were found in Mohenjo-daro, which had the effect of radiation . In the Mahabharata, the festival Suptik results have been brahmastra Chapter 13 through 15 . According to Hindu history brahmastra atomic bomb had been dropped on November 3, 5561 BC ?

It is described in the Mahabharata - .. '' '' '' Tdstrn Prajjwal Mahajwaln halo Snvritm Jwalamalakuln Brism Ssbdmbvm ether . Sprwtwndrauma Kritsna Cchal f .. '' 8 mo .. 10 .. 14 ..

That leaves brahmastra kill the fierce wind was strong cuffs . Shsravdi meteor falling from the sky . The fierce Mahaby Bhutmatra occurred. The sky was a big word . The sky was burning mountains , forests , trees shook the earth .

Now the question arises whether there was really only Mahabartkalin our technology more advanced than today's technology ?

4] Kuru was born to a mystery :

who does not know the Kauravas . Dhritarashtra and Gandhari had 99 sons and one daughter called the Kauravas . Due to the Kuru dynasty called the Kauravas . Duryodhana was the largest in the Kauravas . When Gandhari was pregnant , then Dhritarashtra had sex with a slave woman was born a son named due combative . Such were the hundred Kauravas .

Gandhari blessed to be done Putrwati of the Veda . To conceive after two years have passed , but did not generate any daughter of Gandhari . The Krodhavs Gandhari was punching him hard on the stomach which she fell pregnant .

Veda learned of the incident immediately . They came to Gandhari said - ' Gandhari ! Tune very wrong . God is never given me a false god . Get ready furrow hundred of them and now you soon melted butter ( ghee ) Fill Give '

Gandhari came from the womb of the Blessed meat Veda bodies of water sprinkled on the thumb of his body Poruye hundred pieces were equal . Veda had made Gandhari a hundred of those pieces and placed in reservoirs and open reservoirs ordered two years later moved to his ashram . Duryodhana was born two years later by the first furrow . The remaining 99 sons of Dhritarashtra and sorrow of those pools : Sla , a girl was born .

5] Great Warrior Berbrik :

Berbrik great Pandavas were the sons of Bhima 's son Ghatotkacha and nagkanaya Ahilwati . Sporadic Moore on the monster's daughter ' Kamkantkta 's abdomen is said to be born with them . When the war of Mahabharata was confirmed Berbrik expressed a desire to join the battle and the mother with the loser pledged to side . Berbrik ride of your blue bow with three arrows and proceeded towards the battlefield of Kurukshetra .

Three arrows were enough for Berbrik the Kauravas and Pandavas force they could eliminate an entire army . Knowing Brahman dressed as Lord Krishna appeared before him and took him away to trick demand his head .

Berbrik prayed to Krishna that they want to end the war , Krishna when he admitted it . Sheesh , she donated Dwadshi Falgun month . Sinckr the head of the immortal God placed on the highest point so they can see the Mahabharata war . His head was placed on a hill near the battlefield where Berbrik could take stock of the entire war .

6] No amounts were based on astrology :

there were no funds in times of Mahabharata . 27- was based on astrology and not on the 12 zodiac signs . In the first place, Rohini constellation , but not Ashwini .constellation affect the planet 's life .

7] There was overseas in battle :

the battle of Mahabharata was also in overseas . While the destruction of the country, while the army took part in the war, Greek , Roman , America , etc. Mesidonian warriors join the battle comes in the context of . On this basis it is considered that the Mahabharata was the world's first World War .

8] 28th Ved Vyas wrote Mahabharata:

Most people know that the Mahabharata was written by Veda incomplete but it 's true . Veda no name , but a degree , which was given to people who have knowledge of Vedas . Veda had before Krishndwapin 27 , while they were in the 28th Veda . Krishndwapin therefore was his name , because his dark complexion (Krishna ) and they were born on the island .

9] Dushasn killed by the son of Abhimanyu :

Abhimanyu's killing people know that the trap was set up by the seven masters . Abhimanyu was killed seven giants together but this is not true . According to the Mahabharata , Abhimanyu present in seven of the brave fighting a giant maze ( Duryodhana 's son ) was killed . This angered Dushasn 's son Abhimanyu was killed .

10] Mahabharata , written in three steps :

Veda is considered fundamental to the Mahabharata, of course , but it was written in three stages . 8,800 verses in the first phase , second phase and the third phase one lakh 24 thousand verses were written . Veda Bhandarkar Oriental Research Institute in addition to the Mahabharata , the Sanskrit epic Pune is considered the most authentic .

The entire Mahabharata was translated into English twice . Ganguly was the first translation Mohan Kisari between 1883-1896 and the second from 1905 to 1895 between Mnmnthnath Dutt . 100 years later , Dr. Debroy third time the Mahabharata are translated into English.

You May Be Interested IN
A Smart Gateway to India…You’ll love it!

Recommend This Website To Your Friend

Your Name:  
Friend Name:  
Your Email ID:  
Friend Email ID:  
Your Message(Optional):